क्या कोरोना वायरस का इलाज संभव है। Coronavirus Vaccine In Hindi

Coronavirus Vaccine In Hindi – आज सम्पूर्ण जीवन खतरे में है इसका कारण भी मानव जाती है। संपन देश जो बात बात पर परमाणु बम की धमकी दिया करते थे आज वो सभी एक सूक्ष्म जीव (Coronavirus) के सामने लाचार नजर आ रहे है। इस लेख में आप कोरोना वायरस की वैक्सीन (coronavirus vaccine in hindi) के बारे में जानने वाले है साथ ही कोरोना वायरस के लक्षण (coronavirus symptoms in hindi) भी जानने वाले है। कोरोना वायरस भारत में (coronavirus india) में बहुत तेजी से फैलता जा रहा है। कोरोना वायरस वैक्सीन  की लेटेस्ट न्यूज़ (coronavirus vaccine latest news in hindi) के लिए आप TopBharat पर जुड़े रहे।

क्या कोरोना वायरस का इलाज संभव है। Coronavirus Vaccine In Hindi

Coronavirus Vaccine In Hindi
Coronavirus Vaccine In Hindi

कोरोना वायरस जिसे SARS-CoV-2 भी कहते है। इस से हुई बीमारी को Coronavirus Disease या COVID – 19 भी कहते है। लोगो के सामने यह वायरस दिसम्बर 2019 में सामने आया था इस वायरस का पहला मरीज South China Wuhan Sea Food Market में सामने आया था। इस Market में सभी प्रकार के जानवर का मांस ( कुत्ता, मुर्गी, सूअर, सांप आदि ) बेचा जाता है। चीन के South China Wuhan Sea Food Market को कोरोना वायरस का स्टार्ट पॉइंट माना जाता है। कोरोना वायरस, इस से पहले जानवरो में पाया जाता था आमतौर पर देखा जाये तो ये जानवरो में पाया जाने वाला वायरस है।

अब आप के मन में एक सवाल आ रहा होगा की कोरोना वायरस किस जानवर से निकला है तो रिसर्च के अनुसार यह वायरस चमकादड़ (Bats) से आया है क्युकी Bats और कोरोना वायरस का DNA (Deoxyribonucleic Acid) लगभग एक समान पाया गया है। 
पहले ये वायरस एक व्यक्ति में फैला होगा इसके बाद ये वायरस एक एक करके सभी में फैलाने लगा आखिर में चीन ने 1 जनवरी 2020 को South China Wuhan Sea Food Market को पूरी तरह से लॉक कर दिया। जब Journal of Medical Virology ने इस वायरस पर और अधिक रिसर्च किया तो पता लगा की ये वायरस South China Wuhan Sea Food Market में कोबरा सांप से निकला है। कई रिसर्च का ये भी मानना है की ये वायरस एक से अधिक जानवर के मांस से बना है क्युकी इस मार्केट में सांप, चमकादड़ और बहुत से जानवरो का मीट एक साथ बेचा जाता था। 

अब तक जितनी भी रिसर्च की गई है उसमे अभी भी सही जानकारी हाथ नहीं लगी है विश्व के सभी रिसर्चर कोरोना वायरस के ऊपर अध्ययन कर रही है जल्द ही कोरोना वायरस की प्रॉपर्टी की जानकारी मिल जाने पर इस का वैक्सीन तैयार कर लिया जायेगा 

चाइना में यह वायरस फैलने के बाद एक के बाद एक लोगो को लक्षण (Symptoms) नजर आने लगे इसके बाद चाइना के एक डॉक्टर जिसका नाम था Dr. Liwenlangh के पास सबसे पहले कुछ कोरोना वायरस के मरीज का ईलाज करने भेजा गया और डॉक्टर ने रिसर्च के बाद पता लगाया की ये एक नया वायरस है जोकि आज से पहले कभी भी इंसानो में नहीं पाया गया था। इस वायरस के बारे में डॉक्टर को कुछ भी नहीं पता था इसलिए डॉक्टर ने अपने ग्रुप के सभी को सावधान रहने को कहा लेकिन ये बात धीरे धीरे फैलाने लगी और चाइना की सरकार ने  Dr. Liwenlangh को गिरफ्तार कर लिया उनको लगा की ये लोगो में अपवाह फैलाकर डरा रहा है।

लेकिन उनके अरेस्ट होने के बाद जो होता है वो इतिहास के पन्नो में नॉट किया जाने वाला था।

coronavirus vaccine latest news in hindi


coronavirus vaccine latest news in hindi
coronavirus vaccine latest news in hindi

इसके बाद ये वायरस Wuhan शहर में पूरी तरह फैल गया हजारो की संख्या में लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए साथ ही 7 February 2020 को Dr. Liwenlangh की मौत भी कोरोना वायरस से हो गई। अगर चाइना सरकार Dr. Liwenlangh को सीरियस लेती और Dr. Liwenlangh को अपना काम करने देती तो शयद आज ये वायरस इतना नहीं फैलता अब कोरोना वायरस धीरे धीरे वुहान शहर से बाकि देशो में भी पहुंच चूका था। धीरे धीरे कोरोना वायरस के मरीज बढ़ने लगे। आखिरकार 11 मार्च 2020 को WHO (World Health Organization) ने इसे ऑफिसियल रूप से महामारी घोषित कर दिया। 

कोरोना वायरस का इलाज। Coronavirus Vaccine In Hindi

सबसे पहले हमें ये जान लेते है की हमारे शरीर में दो प्रकार की बीमारी बैक्टीरियल इन्फेक्शन (Bacterial Infection) और वायरल इन्फेक्शन (Viral Infection) होता है। 
Coronavirus Vaccine In Hindi
Bacterial Infection – बैक्टीरियल से होने वाली बीमारी का क्योर वैज्ञानिको ने निकाल लिया है। जब भी हमें कोई बैक्टीरियल इन्फेक्शन से बीमारी होती है जैसे Strep Throat, Ear Infection, Urinary Tract Infection (UTI) का इलाज किया जा सकता है। यानि की हम रोगी को ठीक कर सकते है। 
Viral Infection – जब वायरस की बात आती है नार्मल सर्दी लगना जुकाम लगना जैसी बीमारी का वैज्ञानिको ने आज भी इलाज नहीं निकाल पाया है क्युकी वो एक वायरल इन्फेक्शन है इसका कोई मुख्य इलाज नहीं होता है चाहे वो कोरोना वायरस हो, डेंगू ,एड्स , HIV चिकनपॉक्स हो आदि का हम क्योर (Cure) नहीं कर सकते सिर्फ ट्रीटमेंट (Treatment) कर सकते है 

Cure का मतलब है तीर चलाकर बाहरी एजेंट को मार देना जो की हमारे शरीर में गया है जिस से हम 100 % ठीक हो सकते है उसे क्योर होना कहते है। जबकि Treatment अलग चीज होती है, ट्रीटमेंट क्योर नहीं होता। ट्रीटमेंट में आप के शरीर को ऐसे रखा जाता है जिस में वायरस शरीर से बहार निकलने के चांस रहते है। 

बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी को एंटीबायोटिक के जरिये डॉक्टर क्योर करते है एंटीबायोटिक बैक्ट्रिया को मार सकते है लेकिन वायरस को नहीं

लेकिन कोरोना वायरस में एक बात ख़ास ये है की इसमें कोई ट्रीटमेंट भी काम नहीं कर रहा है और कोई ट्रीटमेंट भी नहीं है भविष्य में होगा या नहीं अभी ये हम नहीं बता सकते लेकिन अभी तक तो नहीं है।

कोरोना वायरस एक वायरस से होता है न की बैक्टीरया से जैसा की हमने अभी जाना नार्मल जुकाम या सर्दी जो की वायरस से होती है वायरस बैक्ट्रिया से अलग इस लिए है क्युकी ये जल्दी एक शरीर से दूसरे शरीर में फैलता है।

वायरस को कैसे हरा सकते है (वायरस का इलाज)  आखिर कार हमारा शरीर ही वायरस को शरीर से बहार निकाल सकता है हमारा Immune Systam ही इस वायरस से बचा सकता है। बाहरी रूप से हम कुछ नहीं कर सकते जो कर सकता है वो हमारा शरीर ही कर सकता है। अगर आप का इम्यून सिस्टम मजबूत है तो कोई भी वायरस आप के शरीर में प्रवेश करने के बाद, शरीर का Immune Systam कोरोना वायरस को ही नहीं बल्कि किसी भी वायरस को हरा देगा

वायरस इंसान के शरीर में घुस जाये तो क्या होगा – वायरस कुछ और नहीं बल्कि गोल सा Object होता है आप निचे दिए गए फोटो में देख सकते है

Coronavirus
Coronavirus 

वायरस के अंदर Genetic Materials होता है ये तब ही अपने आप को मल्टीपलाई करते है जब ये वायरस मानव के शरीर में प्रवेश करता है। वायरस निर्जीव वस्तु जैसे प्लास्टिक से भी ट्रांसफर हो सकता है लेकिन बाहरी वातावरण में कुछ ही घंटे जिन्दा रह सकता है। अगर वायरस किसी माध्यम से इंसान के फेफड़ो में पहुंच जाता है तो अपने आप को मल्टीपलाई करने लगता है। हमारे फेफड़ो में अरबो Epithelial Cells होती है। कोरोना वायरस आप के मुँह या नाक से फेफड़ो में पहुंच कर Epithelial Cells से जुड़ जाता है। और अपने जेनेटिक मेटीरियल को अपनी सेल्स में इंजेक्ट कर देता है जिस कारण वो वायरस कोशिका के अंदर ही फैलने लगता है जब हमारा शरीर को पता चलता है की शरीर में वायरस फैल रहा ै तो हमारा शरीर क्रिटिकल अवस्था में आ जाता है और अपने आप को मार देता है। अब वायरस बिना रुके बाकि कोशिका तक भी पंहुचा जाता है फैलाने लगता है इस प्रकार शरीर की बाकी सेल्स भी मर जाते है कुछ ही दिनों में शरीर के करोडो सेल्स वायरस से ग्रसित हो जाते है 

अब हमारे शरीर में आर्मी की एंट्री होती है जिसे Immune System यानि की हमारे शरीर की रोगप्रतिरोधकता क्षमता अपना काम करती है। अगर हमारे शरीर रोगप्रतिरोधकता अधिक होती है तो शरीर  वायरस को नस्ट कर देता है

अगर हमें कोरोना वायरस से बचना है तो हमारे शरीर की  Immune System को बढ़ाना होगा तब ही हम कोरोना वायरस को हरा सकते है

दोस्तों आशा करता हु आप को दी गई जानकारी बहुत ही पसंद आई होगी। इसी प्रकार की नई जानकारी के लिए आप हमारी हिंदी वेबसाइट TopBharat पर जुड़े रहे। इसके बाद भी आप के कोई प्रशन है तो आप हमें निचे कमेंट कर सकते है। हमें आप की मदद करने में बहुत ख़ुशी होगी धन्यवाद।

Leave a Comment